Railway Board Big Decision…

दोस्तों आजकल के समय में महिलाओं की सुरक्षा बहुत ही अहम मुद्दा बन गई है वर्तमान समय में महिलाओं के साथ हो रही घटनाओं को देखते हुए रेलवे बोर्ड के द्वारा एक बहुत ही अच्छा निर्णय लिया गया है रेलवे बोर्ड में इस निर्णय को लेते हुए महिलाओं की सुरक्षा का खास ध्यान रखा है आपको बता दें कि रेलवे बोर्ड के इस निर्णय में अब महिलाएं बिना टिकट के ट्रेन में अकेले सफर कर सकती हैं अब किसी भी महिला को टीटीई ट्रेन से नहीं उतार पाएगा आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यह कानून का नया फैसला नहीं है बल्कि यह तीन दशक पुराना है अब इस कानून को सख्ती से लागू किया जा रहा है हफ्ते भर के अंदर ही रेलवे जोन इसके संबंध में दिशा-निर्देश जारी करने की तैयारी कर रहा है।

यह कानून 1989 में ही बन गया था परंतु इसकी खबर नहीं है किसी को

Source

आजकल के समय में देखा जाए तो चलती ट्रेन के अंदर भी महिलाएं सुरक्षित नहीं होती हैं और इन महिलाओं को अकेले कहीं पर भी ट्रेन से उतार दिया जाता है यदि महिलाओं को अकेले ट्रेन से उतार दिया जाए तो ना जाने इनके साथ क्या-क्या हो सकता है इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए महिला सुरक्षा के लिए यह बड़ा निर्णय लिया गया है अकेली महिला को देखकर कोई भी उसके साथ कुछ भी कर सकता है इन्हीं सब बातों को मद्देनजर रखते हुए रेलवे बोर्ड ने अकेली महिला यात्री को किसी भी स्टेशन पर उतारने की घटना की आशंका जताते हुए इस बड़े निर्णय को लिया है आपकी जानकारी के लिए बता दे कि महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने 1989 में एक कानून बनाया था जिसकी खबर शायद ही किसी को है।

Source

आपको बता दें कि यदि अकेली महिला को ट्रेन से उतारा जाए तो अकेली महिला को ट्रेन से उतारने पर उसके साथ कई घटनाएं होने की संभावना होती है इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए कानून में प्रावधान किया गया है कि ट्रेन में बिना टिकट अकेली महिला अगर यात्रा कर रही है तो टीटीई ट्रेन से उस महिला को नहीं उतर सकता है इसके ऊपर कानून बना दिया गया है परंतु अभी तक इसको लागू नहीं किया गया है यहां तक कि इस कानून के बारे में टीटीई स्टेशन मास्टर और गार्ड तक को भी नहीं पता है।

Source

रेलवे मैनुअल के अनुसार रिजर्व कोच में प्रतीक्षा सूची में नाम होने पर भी महिला को ट्रेन से उतारा नहीं जा सकता है इसके अतिरिक्त यदि वह स्लीपर का टिकट लेकर AC 3 में यात्रा कर रही है तो टीटीई उसे स्लीपर में जाने का केवल रिक्वेस्ट ही कर सकता है उस महिला को सिर्फ जिला मुख्यालय के स्टेशन पर ही उतारा जा सकता है परंतु इसके लिए पहले कंट्रोल रूम को इसकी खबर देनी होगी इसके पश्चात ट्रेन से उतार कर टिकट के साथ जीआरपी की महिला कॉन्स्टेबल की जिम्मेदारी होगी कि वह महिला को ट्रेन में सही स्थान पर बैठा दें।

 

Leave a Comment